फाइनेंस कितने साल का होता है l how old is finance

Rate this post




फाइनेंस में छह माह से तीन साल के समय का डिप्लोमा, पीजी डिप्लोमा , ग्रेजुएशन व मास्टर् स्तर पर कई पाठ्यक्रम संस्थान में कराए जाते हैं जो फाइनेंस व उससे जुड़े ऑनलाइन कोर्स करना चाहते हैं उनके पास बी . कॉम के साथ एक दो साल का अनुभव है

फाइनेंस में करियर बनाने का क्या मतलब है?

फाइनेंस में करियर बनाने का मतलब है दुनिया की अर्थव्यवस्थाओं को प्रभावित करने वाले नंबर, चार्ट, पैटर्न और नियम को सीखना. इसमें फंड, क्रेडिट, इन्वेस्टमेंट, बैंकिंग, लाइअबिलिटीज़ और ऐसेट्स (liabilities and assets) को मैनेज करना सिखाया जाता है. नॉलेज हासिल होने के लिहाज से यह एक गंभीर विषय है

फाइनेंस के कैरियर की जानकारी

सही जानकारी प्राप्त करें

फाइनेंस के क्षेत्र में करियर (Finance Career Options) बनाने को लेकर कई बार सही जानकारी नहीं मिल पाती है. बेशक यह एक बेहतरीन करियर विकल्प (Career tips) है जिसमें ग्रोथ की असीमित संभावनाएं है. आजकल फाइनेंस में नए-नए करियर ऑप्शंस सामने आ रहे हैं.

अगर आपकी रुचि भी फाइनेंस में है तो सबसे पहले इस फील्ड में डिग्री-डिप्लोमा हासिल करें. इसके बाद आपके पास अनेक करियर ऑप्शन होंगे. फाइनेंसियल सर्विस सेक्टर का महत्व तेजी से बढ़ रहा है. ऐसे में युवाओं को बैंक, शेयर बाजार, फाइनेंसियल इंस्टीटूशन्स और इनश्योरेंस सेक्टर में अनेक अवसर मिलने लगे हैं.

आजकल मोबाइल और इंटरनेट बैंकिंग की वजह से निवेश में तेजी आई है. ऐसे में फाइनेंशियल प्लानर और इससे संबंधित पेशेवरों की डिमांड भी बढ़ी है. आइए जानते हैं, फाइनेंस में करियर बनाने के लिए कौन सा कोर्स करना ठीक रहेगा और इसके बाद नौकरी के क्या विकल्प उपलब्ध होंगे.

फाइनेंस के सबसे अच्छे कोर्स कौनसे हैं

  • पीजी डिप्लोमा इन फाइनेंशियल प्लानिंग एंड मैनेजमेंट
  • बैचलर इन फाइनेंशियल एंड इनवेस्टमेंट एनालिसिस
  • बीए/एमए इन फाइनेंस
  • बीएससी इन फाइनेंशियल अकाउंटिंग
  • एमबीए इन फाइनेंस
  • पीजी डिप्लोमा इन मैनेजमेंट एंड फाइनेंशियल इंजीनियरिंग

फाइनेंस की सैलरी कितनी होती है

फाइनेंस के शुरुआत में किसी कंपनी से जुड़ने पर प्रतिमाह आय 20-25 हजार रुपये होती है। जबकि 5-7 साल का अनुभव होने पर यह बढ़कर 45-55 हजार रुपये प्रतिमाह तक पहुंच जाती है। आज कई ऐसे पेशेवर हैं, जो डेढ़ लाख रुपये प्रतिमाह तक कमा रहे हैं।

फाइनेंस जॉब्स का भविष्य क्या है?

एआई और मशीन लर्निंग वित्त का भविष्य तय करेंगे । एआई और मशीन लर्निंग वित्त उद्योग के महत्वपूर्ण खंड बन जाएंगे। वे डेटा का तेज़, अधिक सटीक और अधिक सटीक विश्लेषण, बेहतर जोखिम प्रबंधन और उन्नत वित्तीय उत्पादों और सेवाओं के विकास को सक्षम करेंगे।

बैंक फाइनेंस कैसे बने?

स्नातक पास करने के बाद आपको बैंकिंग और फाइनेंस (Banking and Finance Course) का कोर्स फी किसी संस्थान से करना होगा आज कल बैंकिंग और फाइनेंस का कोर्स काफी ज्यादा ट्रेंडिंग में चल रहा है यह कोर्स करने के लिए आप बैंकिंग और फाइनेंस कोर्स गूगल पर भी सर्च कर सकते हैं।

फाइनेंस और फाइनेंसिंग में क्या अंतर है?

वित्त पोषण वित्त का ही एक भाग है । इसका अर्थ है विशिष्ट उद्देश्य के लिए धन उपलब्ध कराना। घाटे का वित्तपोषण, शिक्षा का वित्तपोषण, कार का वित्तपोषण, कार्यशील पूंजी के लिए वित्तपोषण और एक नए व्यवसाय के लिए वित्तपोषण। सबका तात्पर्य ऋण या धन उपलब्ध कराने से है।

मैं एक छोटा वित्त बैंक कैसे शुरू करूं?

लघु वित्त बैंकों को कंपनी अधिनियम, 2013 के तहत एक सार्वजनिक लिमिटेड कंपनी के रूप में नामांकित किया जाना चाहिए और बैंकिंग विनियमन अधिनियम, 1949 की धारा 22 के तहत अधिकृत किया जाएगा। इसके अलावा, यह बैंकिंग विनियमन अधिनियम, 1949 और भारतीय रिज़र्व बैंक अधिनियम, 1934 की शर्तों द्वारा प्रशासित है

फाइनेंस की शुरूआत केसे करे

फाइनेंस बिजनेस शुरू कैसे करे? लोन और क्रेडिट कार्ड: खुद का लोन बिज़नेस शुरू कर सकते हैं, या किसी कंपनी का DSA ले सकते हैं। फाइनेंसियल सर्विसेज: जैसे कि म्यूचअल फंड्स, कॉर्पोरेट FD, NCD (नॉन कनवर्टिबल डिबेंचर), शेयर सब-ब्रोकिंग, PMS और इंस्योरेंस जैसी फाइनेंसियल सेवाएं प्रदान कर सकते है।

Leave a Comment